दरभंगा-कोलकाता मिथिला एक्सप्रेस एलएचबी कोच से हुई लैस, हादसाें पर लग सकती है ब्रेक

चर्चित बिहार : दरभंगा से कोलकाता के बीच चलने वाली 15234 मथिला एक्सप्रेस को एलएचबी कोच से लैश कर दिया गया है। इस ट्रेन में एलएचबी कोच के लगने से यात्रियों की सुविधा बढ़ गई है। डीआरएम आरके जैन ने बताया कि एलएचबी कोच लगने से स्लीपर के अलावा एसी-3, एसी-2 व एसी फास्ट में सीटों की संख्या बढ़ जाएगी। जिससे ज्यादा यात्री सफर कर पाएंगे। इसके साथ ही मंडल में एलएचबी युक्त ट्रेनों की संख्या दस हो गई है। अभी जयनगर से चलने वाली स्वतंत्रता सेनानी, दरभंगा से चलने वाली पवन एक्सप्रेस व सहरसा से चलने वाली पूर्वईया एक्सप्रेस, दरभंगा -सिकंदराबाद एक्सप्रेस के अलावा कुछ अन्य ट्रेनों में एलएचबी कोच लगी है। दरभंगा-कोलकाता बाद ट्रेन एलएचबी कोच युक्त मंडल की दसवीं ट्रेन होगी।

दरभंगा-कोलकाता एक्सप्रेस मे लगी एलएचबी कोच। 

200 किमी की स्पीड में चलेगी ट्रेन 

एलएचबी कोच लग जाने से इस ट्रेन की औसतन स्पीड 160 से 200 किमी की हो जाएगी। जबकि ICF कोच की स्पीड 70 से 140 किमी प्रति घंटा तक होती है। इस स्पीड पर ये दोनों कोच सुरक्षित तरीके से दौड़ते हैं। कोच में एंटी टेलिस्कोपिक सिस्टम होता है जिसके कारण इसके डिब्बे आसानी से पटरी से नहीं उतर पाते. वहीं दूसरी ओर इसके डिब्बे स्टेलनेस स्टील और एल्यूमीनियम के बने होते है जबकि साधारण कोच माइल्ड स्टील के बने होते है जो ज्यादा झटके नहीं सह पाते और दुर्घटना का कारण बन जाते हैं। एलएचबी कोच का व्हील बेस साधारण कोच के मुकाबले छोटा होता है जो हाई स्पीड होने पर भी रेल को सुरक्षित रखता हैं इससे दुर्घटना होने की संभावना कम होती है।