जिंदगी के साथ और जिंदगी के बाद भी चलती रहेगी कोरोना:डिप्टी सीएम

जिंदगी के साथ और जिंदगी के बाद भी चलती रहेगी कोरोना:डिप्टी सीएम

चर्चित बिहार :  1917-18 में हिंदुस्तान एक स्पेनिश वायरस का शिकार हुआ था जिसमें लगभग डेढ़ करोड़ लोग मारे गए थे।गांधी जी के बड़े बेटे हरि बाबू के पुत्र और पत्नी तथा सूर्यकांत त्रिपाठी निराला के आधा दर्जन परिजन इस वायरस की चपेट में आने से असमय काल कलवित हुए थे।कोरोना की बात करें तो भारत में इसकी मृत्यु दर 2.86% है।इसे माननीय पीएम की दूरदर्शिता का सnfoफल परिणाम कहें कि लॉकडाउन के निर्णय ने इसकी भयावहता को न्यूनतम कर दिया है।उक्त बातें सूबे के उपमुख्यमंत्री श्री सुशील कुमार मोदी ने भारतीय जनता पार्टी के वाणिज्य मंच बिहार प्रदेश के ऑनलाइन सम्मेलन को संबोधित करते हुए कही।वे सभी जिलों के वाणिज्य प्रकोष्ठ से जुड़े पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से मुखातिब थे।उन्होंने कहा कि हमें बढ़ते हुए आंकड़ों से परेशान नहीं होना है क्योंकि भारत के 62% संक्रमित लोग देश के दस उन शहरों तक ही सीमित हैं जहां आबादी का घनत्व सबसे अधिक है।उन्होंने कहा कि वेंटिलेटर की 1% संक्रमित लोगों को ही वेंटिलेटर की आवश्यकता है क्योंकि 100 अगर संक्रमित हो रहे हैं तो 85 खुद ब खुद ठीक भी हो रहे हैं।उन्होंने कहा कि मास्क का उपयोग और सोशल डिस्टेंसिंग ही इसकी एकमात्र दवा है।

कोरोना लंबे समय तक हमारे साथ रहने वाला है इसलिए बचाव ही इसका एकमात्र उपाय है।कोरोना को अर्थव्यवस्था पर प्रहार करने वाला वायरस बताते हुए उन्होंने कहा कि इससे गरीब और मजदूर लोग बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं।बिहार में 21 लाख श्रमिक बाहर से लौट कर आए हैं।सरकार ने प्रभावित लोगों,व्यवसाय और उद्योग धंधों को पुनः पटरी पर लाने के लिए 30 लाख करोड़ की पैकेज की घोषणा की है।छोटे व्यापार और लघु उद्योगों के लिए 3 लाख करोड़ रुपए के योजना की घोषणा की गई है जिसका लाभ भी लोगों को मिल रहा है।उन्होंने आंकड़ा जारी करते हुए बताया कि 11 जून तक 32 हजार 30 लोन स्वीकृत हो चुका है जिसमें 17 हजार 199 निर्गत किया जा चुका है।कुल 466 करोड़ रुपए का लोन सेक्शन कर दिया गया है।

उन्होंने जानकारी दी कि जिनके ऊपर बैंकों का 25 करोड़ से नीचे का बकाया है,उनकी आउटस्टैंडिंग का 20% बिना किसी बाउंडेज के ऋण स्वीकृत होगा।पुराने ऋणकर्ता अगर 31 अगस्त तक भुगतान कर देंगे तो एकाउंट एनपीए नहीं होगा।इतना ही नहीं अब केंद्र सरकार ने श्रमिक सेक्टर और मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर को एक कर दिया है।15 लाख लोगों ने शिशु लोन लिया था जिसे भारत सरकार ने 2% से कम ब्याज के अनुदान देने की घोषणा की है।छोटे व्यापारी अगले एक साल के लिए इसका लाभ उठा सकते हैं।उन्होंने कहा कि सूबे में मखाना,सब्जी और माइक्रो फूड प्रोसेसिंग उद्योग लगाने वाले लोगों के लिए 10 हजार करोड़ रुपए की मदद प्रदान की जाएगी।जीएसटी के सम्बंध में उन्होंने बताते हुए कहा कि 1 जुलाई 2017 से 31 जनवरी 2020 तक के उन निबंधित व्यापारियों जिन्होंने किसी भी वजह से रिटर्न फाइल नहीं किया है उन्हें अब दस हजार रुपए के बदले प्रति रिटर्न मात्र पांच सौ रुपए ही देने होंगे।

कॉमर्शियल और इंडस्ट्रियल सेक्टर वालों के विद्युत खपत शुल्क का एवरेज आधार निर्धारित किया गया है।डिप्टी सीएम ने प्रधानमंत्री के द्वारा घोषित राहत पैकेज को लेकर उन्हें धन्यवाद देते हुए बिहार वाणिज्य प्रकोष्ठ के द्वारा आयोजित डिजिटल सम्मेलन में विभिन्न जिलों से जुड़े कार्यकर्ताओं के सवालों का भी विस्तार से जवाब दिया।सम्मेलन की अध्यक्षता बिहार प्रदेश भाजपा वाणिज्य मंच के संयोजक नीरज कुमार ने किया।उन्होंने कहा कि 70 वर्षों के इतिहास में यह पहला मौका है जब पीएम श्री मोदी के नेतृत्व में आत्मनिर्भरता की तरफ बढ़ते भारत का विदेशी मुद्रा 500 अरब डॉलर को पार कर गया है।

उन्होंने कहा कि बिहार में उद्योग धंधों को लगाने वाले इच्छुक लोगों को मात्र 15 दिनों के भीतर ही सारे लाइसेंस बना कर उपलब्ध करा दिए जाएंगे।अगर कोई बाधक बनते हैं तो वे निश्चित ही नपेंगे।उन्होंने पीएम मोदी के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा कि ठेलेवाले,रिक्शेवाले,सब्जीवाले,खोमचे वालों से लेकर बड़े उद्योगपतियों को जिस तरह से राहत पहुंचाई गई है वह काबिलेतारीफ है।उन्होंने डिजिटल सम्मेलन से जुड़े सभी कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि वे केंद्र और राज्य सरकार की राहत देने वाली पैकेजों और लाभ लेने के तरीकों से लोगों को अवगत कराएं।साथ ही उन्होंने सभी व्यापारियों को जानकार दी कि वाणिज्य प्रकोष्ठ में सीए और अन्य फाइनेंस एक्सपर्ट की टीम हैं जो हमेशा आपकी वित्तीय सलाह के लिए उपलब्ध हैं।आप उनसे भी बेहिचक सलाह ले सकते हैं।

भवदीय
नीरज कुमार
प्रदेश संयोजक
भाजपा वाणिज्य मंच
बिहार प्रदेश