रोहतास डिस्ट्रिक्ट वेब के एक साल पूरे होने नोखा के नीलकमल हॉल में वर्षगांठ मनाया गया

चर्चित बिहार : रोहतास डिस्ट्रिक्ट वेब के एक साल पूरे होने नोखा के नीलकमल हॉल में वर्षगांठ मनाया गया। जहां रोहतास संवाद के रूप में कार्यक्रम आयोजित की गयी। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि गोपाल नारायण विश्वविद्यालय के सचिव गोविन्द नारायण, विशिष्ट अतिथि पहल के अध्यक्ष अखिलेश सिंह, रोहतास के इतिहासकार डॉ. श्याम सुंदर तिवारी, नोखा थाना इंस्पेक्टर अकरम अंसारी, थानाध्यक्ष मिथलेश कुमार थे। कार्यक्रम की शुरुआत बृज बिहारी प्रसाद, गोविंद नारायण सिंह, अखिलेश कुमार, डॉ. श्याम सुंदर तिवारी, अंकित कुमार, अनुपम पटेल, अमित सचिन एवं डॉ. मधु उपाध्याय द्वारा दीप प्रज्वलित करके हुयी। मंच संचालन आरा की प्रसिद्ध कवियित्री नेहा नूपुर ने की, जो रोहतास डिस्ट्रिक्ट की सक्रीय सदस्य है। उन्होंने कार्यक्रम के दौरान मानवा में बसल इ बिहार कहाँ जाई सुनाया जो दर्शको द्वारा काफी पसंद किया गया। पुरातत्वविद डॉ. श्याम सुंदर तिवारी ने बोला कि रोहतास जिले का इतिहास हजारों साल पुराना है। पौराणिक ग्रंथों में भी इसकी जानकारी मिलती है। कार्यक्रम में उन्होंने नोखा गढ़ की इतिहास की चर्चा किए। उन्होंने कहा कि बाबू वीर कुंवर सिंह का लगाव नोखा गढ़ के प्रति था। उन्होंने कहा कि जिले में प्राचीन अवशेष की भरमार है, जिसके बारे में लोगों को जानकारी नहीं है, जिसे रोहतास डिस्ट्रिक्ट वेब लोगों के बीच लाने का कार्य कर रहा हैं।
पहल के अध्यक्ष अखिलेश कुमार ने बताया कि सोशल मीडिया का प्रयोग करके अपनी पहचान बनाई जा सकती है, इसका प्रमाण रोहतास डिस्ट्रिक्ट वेबसाइट ने दिया है। उन्होंने कहा कि रोहतास डिस्ट्रिक्ट वेब आज दूर बसे अपने लोगों को अपनी मिट्टी को सोंधी खुशबू का अहसास करा रही है। वहीं राज्य और देश से बाहर के पर्यटकों इससे जानकारी प्राप्त कर जिले के पर्यटन स्थल को देखने आ रहे। उन्होंने बताया कि वेब पर रोहतासगढ़ किले को लेकर हजारों की संख्या में लोग हर माह विजिट करते हैं। उन्होंने युवाओं को परिस्थितियों से मुकाबला करते हुए आगे बढने के लिए प्रेरित किया।


गोपाल नारायण सिंह विश्वविद्यालय के सचिव गोविंद नारायण सिंह ने कहा कि रोहतास जिले के पर्यटन स्थल की अपार संभावनाएं हैं। जिसके लिए हम सबको आगे आना होगा। उन्होंने बताया कि हमारी प्रयास रंग ला रही है। अब रोहतासगढ़ किला पर रोपवे बनने की अंतिम कगार पर है। उन्होंने कहा कि रोहतास डिस्ट्रिक्ट वेब राज्य व देश के बाहर के लोगों को अपने धरोहर के बारे में जानकारी दे रहा है जो काफी सराहनीय है। युवाओं को परिस्थितियों से मुकाबला करते हुए आगे बढने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने युवाओं से अपने मन में व्याप्त भय, संकोच व झिझक को निकालकर जीवन में कुछ कर गुजरने व आगे बढने की बात कही। उन्होंने कहा कि रोहतास सबसे साक्षर जिला है यहां के लोग ठान ले तो परिवर्तन ला सकते हैं। कहा कि एक दिन था जब लोगों को ईलाज के लिए सासाराम से रेफर होकर बनारस जाना पड़ता था। लेकिन अब सब परिवर्तन हो गया है लोगों अब बनारस के बजाए नारायण मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में आते हैं। रोहतास पर्यटन, कृषि, शिक्षा सहित स्वास्थ्य के क्षेत्र में अपना अलग पहचान बना रहा है।
वेब के फाउंडर अंकित कुमार ने कहा कि वेबसाइट पर अबतक बिहार और देश के अलावे देश के बाहर के लाखों लोग विजिट किए हैं। अंकित कुमार बताते हैं कि वेबसाइट पर हर माह रोहतासगढ़ किला को लेकर लगभग 30000-40000 लोग विजिट करते हैं।
अनुपम पटेल ने कहा कि, रोहतास के पर्यटन स्थलों के घूमने को लेकर टीम के पास राज्य के बाहर के लोगों का हर दिन पांच-छः लोगों का कॉल आता हैं जिसमें सबसे ज्यादा लोग रोहतासगढ़ किला पर जाने की जानकरी पूछते हैं। उन्होंने बताया कि रोहतास डिस्ट्रिक्ट के अलावे पिछले साल वेबसाइट लॉन्चिंग के बाद टीम द्वारा छठ में छठपर्व पेज पर देश व देश के बाहर से लाइव छठ दिखाया गया था। जिसमें 2 करोड़ लोग पेज पर विजिट किये थे। साथ ही उन्होंने कहा कि रोहतास में पहला विश्वविद्यालय गोपाल नारायण सिंह विश्वविद्यालय खुलना हमसब के लिए गर्व की बात है। इससे शिक्षा के क्षेत्र में काफी परिवर्तन होगा। मौके पर नोखा इंस्पेक्टर अकरम अंसारी, थानाध्यक्ष मिथलेश कुमार, अजीत कुमार, डॉ. नागेन्द्र झा कॉलेज के प्रिंसिपल दशरथ मिश्रा, संझौली की उपप्रमुख डॉ. मधु उपाध्याय, नोखा के पूर्व चेयरमैन बृज बिहारी प्रसाद ने भी अपनी बातें को रखे। साथ ही नोखा के स्कूली छात्रों के शिक्षा को लेकर संवाद किये। धन्यवाद ज्ञापन रजनीश कुमार ने किए। मौके पर बृज बिहारी प्रसाद, मो. नईमुद्दीन अंसारी, अशोक कुमार, अरुण चौधरी, मो. नसीम, मुन्ना पाण्डेय, अजय कुमार निर्भय, चितरंजन सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे।