भाजपा नेता सम्राट चौधरी बोले-हम न दूध वाले और न चावल वाले, हम तो सब्जी वाले हैं

पटना. कुशवाहा समाज से आने वाले भाजपा नेता सम्राट चौधरी ने रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के खीर वाले बयान पर कि हम न तो दूध वाले हैं और न चावल वाले, हम तो सब्जी वाले हैं। कुशवंशी(कुशवाहा समाज) तो सब्जी के लिए जाने जाते हैं। चावल तो हर समाज के लोग उपजाते हैं। हालांकि राजनीति में खीर पकाने का काम सबको करना चाहिए, इसमें कोई दो राय नहीं है। वे एक निजी टेलीविजन चैनल से बात कर रहे थे। भाजपा नेता के बयान पर जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा उन्होंने क्या सोचकर बयान दिया है वो जानें।

कुशवाहा को जाना होता तो चले गए होते
उपेंद्र कुशवाहा के महागठबंधन में जाने पर सम्राट चौधरी ने कहा कि अगर उन्हें जाना होता तो अब तक चले गए होते। राजद के लालटेन में डाला जाने वाला किरासन अगर खीर में पड़ गया तो जायका पूरी तरह बिगड़ जाएगा। राजद बार बार झूठ बोलकर माहौल बनाने की कोशिश कर रही है और झूठ को सत्य साबित करने का प्रयास कर रही है। राजद कहती है कि उपेंद्र कुशवाहा उपेक्षित हैं जबकि वे साढ़े चार साल से एनडीए सरकार में मंत्री है। कुशवाहा एनडीए के साथ हैं और आगे भी रहेंगे।

मामला बढ़ने पर कुशवाहा ने दी थी सफाई
बता दें कि उपेंद्र कुशवाहा ने कुछ दिनों पहले एक कार्यक्रम में कहा था कि यदि यदुवंशियों(यादव समाज) का दूध और कुशवंशियों(कुशवाहा समाज) का चावल मिल जाए तो स्वादिष्ट खीर तैयार होगा। मामला बढ़ने के बाद कुशवाहा ने सफाई देते हुए कहा था कि उन्होंने न तो राजद से दूध मांगा और न भाजपा से चीनी। महागठबंधन में शामिल होने की बात भी कुशवाहा ने खारिज कर दी थी।

कुशवाहा के महागठबंधन में आने की तैयारी पूरी, घोषणा का इंतजार
राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि उपेंद्र कुशवाहा को एनडीए में उपेक्षित किया गया है। उन्हें कोई तरजीह नहीं दी जा रही है। एनडीए अब डूबती नाव है और डूबती नैया पर कोई सवारी नहीं करता है। कुशवाहा जिस विचारधारा की लड़ाई लड़ रहे हैं वो महागठबंधनमें आकर ही लड़ी जा सकती है। खीर, खिचड़ी और पूड़ी महागठबंधन में ही बनेगा। कुशवाहा के महागठबंधन में शामिल होने को लेकर सारी बातें पूरी हो चुकी है, अब सिर्फ घोषणा होने वाली है।