काशी विश्वनाथ व विंध्यांचल की तीर्थ यात्रा कर लौटा श्रद्धालुओं का जत्था

चर्चित बिहार : काशी विश्वनाथ व विंध्यांचल की तीर्थ यात्रा कर लौटा श्रद्धालुओं का जत्था

समाजसेवी सर्वेश तिवारी बोले, हिन्दू-मुस्लिम वृद्धजनों की धार्मिक यात्रा का सिलसिला आगे भी जारी रहेगा

काशी में बाबा विश्वनाथ व विंध्याचल में विंध्यवासिनी देवी सहित आसपास के विभिन्न तीर्थ स्थलों का पूर्वी चंपारण के पहाड़पुर ब्लॉक के 51 वृद्धजनों ने दर्शन किए। इसमें से अधिकतर आर्थिक रूप से अक्षम थे। शुक्रवार को चार दिवसीय यात्रा पूरी कर श्रद्धालुओं का यह जत्था ख़ुशी-ख़ुशी घर लौटा। विशुनपुर मटियरवा गाँव के श्री आनन्द तिवारी के सुपुत्र व समाजसेवी सर्वेश तिवारी की ओर से आयोजित की गई इस तीर्थ यात्रा का ना सिर्फ खर्चा उठाया बल्कि पूरे जत्थे के साथ स्वयं गए । बुजुर्गों के स्वास्थ का ध्यान रखते हुए गांव से खाना बनाने वाले भी साथ गए थें जिससे की शुद्ध और घर का खाना मिल पाए। सभी के ठहरने के लिए कूलर वाले रूम और घूमने के लिए परिवहन की व्योंस्था किया गया था।

ध्यान रखने के लिए पांच वालंटियर भी साथ गए थे।

सभी वृद्धजनों की अपने तीर्थ पर जाकर मथा टेकने की ख्वाहिश होती है फिर चाहे वह हिंन्दू हो या मुस्लिम, लेकिन कई बार धन की कमी से उनकी यह इच्छा दबी रह जाती है। इस पर समाजसेवी सर्वेश तिवारी ने ऐसे वृद्धजनों को तीर्थ यात्रा कराने का बीड़ा उठाया जिसकी उन्होंने बीते दिनों घोषणा भी की थी। इसके तहत 55 से 65 वर्ष की आयु के वृद्धजनों को काशी में बाबा विश्वनाथ सहित आसपास के विभिन्न मंदिरों, घाटों आदि के दर्शन कराये गए जहां यात्रियों ने पूजा अर्चना की। अगले पड़ाव में वृद्धजनों का जत्था विंध्यांचल पहुंचा। वहां विंध्यवासिनी देवी, अष्टभुजा व काली खो सहित विभिन्न मंदिरों में श्रद्धालुओं ने मत्था टेका। साथ ही, सभी ने मंदिरों में प्रसाद चढ़ाया। यात्रा के दौरान भजन- कीर्तन की भी व्यवस्था की गई थी जहाँ सभी लोग भगवान की भक्ति में खोये दिखे। वहीं
किसी भी व्यक्ति को किसी तरह की परेशानी ना हो, इसका विशेष ध्यान रखा गया।
तीर्थ यात्रा से लौटे रूदल राम ने ख़ुशी जाहिर करते हुए बताया कि काशी में बाबा भोले के दर्शन से मन प्रसन्न हो गया। मेरी लंबे समय से ख्वाहिश थी कि एक बार वाराणसी जाऊं लेकिन कई कारणों के चलते नहीं जा सका पर इस यात्रा में मेरी दिली इच्छा पूरी हो गई।
श्रद्धालु शंकर महतो ने बताया कि आयोजकों द्वारा बहुत अच्छी व्यवस्था की गई थी। खूब भगवान का गाना बजाना हुआ और उसी भक्तिमय माहौल में भगवान के दर्शन। खानपान की भी बेहतर व्यवस्था रही। अगर मुझे भविष्य में भी यात्रा पर जाने का अवसर मिला तो मैं जरूर जाना चाहूंगा।
समाज सेवी सर्वेश तिवारी ने कहा कि भविष्य में भी हिंदू और मुस्लिम समाज के निर्धन वृद्धजनों को इसी तरह उनके धाम की यात्रा कराई जाएगी। सभी लोग इसके लिए कार्यालय में पंजीकरण करवा सकते हैं।
उल्लेखनीय है, बीते दिनों सर्वेश तिवारी की ओर से तीर्थ यात्रा व सामूहिक विवाह कराने के लिए पकड़िया बाजार में कार्यालय शुरू किया गया था।