अरवल : डीएम व एसपी ने पहुंच कर मृतकों के परिवार को दिये सांत्वना। मौके पर एसपी ने कहे जहरीली शराब नहीं जहरीली मादक पदार्थ पीने से हुई है मौत

चर्चित बिहार : अरवल जिले के कलेर थाना क्षेत्र अंतर्गत जलवैया गाँव मे मृतकों के घर सांत्वना देने शुक्रवार संध्या जिलाधिकारी सतीश कुमार सिंह व पुलिस अधीक्षक उमाशंकर प्रसाद पहुुंचे। उन्होंने मृतक के परिवारीजनों से मिलकर घटना में शामिल लोगों को जल्द गिरफ्तार करने का आश्वासन दिये. डीएम और एसपी ने संध्या करीब 04 बजे मृतक रमेश चंद्रवंशी कृष्णा पासवान व कइल रविदास के घर घर पहुंचे. दोनों अधिकारियों ने परिजनों से मुलाकात कर उन्हें सांत्वना देते हुए नशीली दवाई पिलाने में शामिल आरोपि को जल्द गिरफ्तार करने का आश्वासन दिये. डीएम ने उन्हे कहा कि जिला प्रशासन दु:ख की इस घड़ी में पीड़ित परिवार के साथ हैं.जिला प्रशासन की ओर से हर संभव मदद का प्रयास किया जायेगा. वहीं एसपी ने कहा कि पीड़ित परिवार को सभी प्रकार की कानूनी मदद की जायेगी.और आगे की कार्रवाई होगी.विदित हो को जहरीला स्प्रिट पीने से तीन लोगों की मृत्यु बुधवार को हो गई थी.जिसके बाद जिला प्रशासन ने उनके घरों का दौर किया.बुधवार को 3 लोगों की मौत हो गई थी.उत्पाद विभाग की टीम ने बताया कि नशीली दवाइयों का सेवन करने से इन तीनों की मृत्यु हुई थी.प्रथमदृष्टया किसी जहरीली चीज के सेवन से ही ये मौतें हुई थी. लेकिन जांच के बाद पता चला इन लोगों को नशे की दवाई पिलाई गई थी.जिसके बाद इन लोगों की मौत हुई. मौके पर उत्पाद आयुक्त के सचिव रेनू कुमारी ,उत्पाद निरीक्षक पटना आदित्य कुमार ,उत्पाद अधीक्षक अरवल अविनाश कुमार ,सहायक निरीक्षक गोपी कृष्ण कुमार ,उत्पाद अवर निरीक्षक सोमेश्वर त्रिपाठी ,औषधि नियंत्रक विजय कुमार गुप्ता ,सहित प्रखंड के आला अधिकारी जलवैया पहुंचकर घटना की पूरी जानकारी पीड़ित पक्ष से प्राप्त किये. उन लोगों ने हंसेडीह निवासी बिहारी सिंह पर आरोप लगाया था.कि भोजन के उपरांत कुछ नशीली दवाइयां पानी में मिलाकर दी गई थी.जिसके बाद इन लोगों की तबीयत बिगड़ी एवं मृत्यु हो गई.इसके पूर्व प्रखंड विकास पदाधिकारी कलेर द्वारा मृतक के आश्रितों को बीस बीस हजार रूपये का परिवारिक लाभ, कबीर अंत्येष्टि तहत मिल चुका है.डीएम ने यह भी बताये कि अगले कुछ ही दिनों में पटना से एफ एस एल का रिपोर्ट आ जायेगा जिसके बाद मृत्यु के कारणों की स्पष्ट जानकारी हो जायेगी.वरीय अधिकारियों के दौरा के बाद निश्चित रूप से यह कहा जा सकता है कि अरवल का प्रशासन इस घटना के प्रति निश्चित रूप से गंभीर है.जिसका सार्थक परिणाम अगले कुछ ही दिनों में लोगों को देखने को मिलेगा.