परिवार संपर्क अभियान निकालेगी भाजपा, पंचायतों में घूम-घूमकर लोगों से मिलेंगे पार्टी पदाधिकारी

चर्चित बिहार पटना. आगामी लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी भाजपा परिवार संपर्क अभियान चलाएगी। इसके लिए पार्टी ने अपने सभी प्रदेश पदाधिकारियों को टास्क सौंपा है। रविवार को प्रदेश दफ्तर में पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में परिवार संपर्क अभियान की समीक्षा की गई।

बैठक में पटना विश्वविद्यालय चुनाव को लेकर भी विस्तार से चर्चा हुई। प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद यादव की अध्यक्षता में हुई बैठक में प्रदेश पदाधिकारियों के अलावा विधायक, पूर्व विधायक, विधानपार्षद भी शामिल हुए।

16 दिनों तक चलेगा अभियान
पार्टी के पदाधिकारी 16 दिसंबर से परिवार संपर्क अभियान पर निकलेंगे। यह अभियान 31 दिसंबर तक चलेगा। पार्टी पदाधिकारी साल के अंत तक सभी पंचायतों में लोगों से संपर्क करेंगे। पार्टी ने परिवार संपर्क अभियान के तहत 9 सदस्यीय टीम बनायी है। इसमें अध्यक्ष के अलावा आठ अन्य सदस्य शामिल हैं। इन्हें छह पंचायतों की जिम्मेवारी सौंपी गयी है।

सरकार की उपलब्धियां गिनाएंगे कार्यकर्ता
संपर्क अभियान में नेता और कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों से संपर्क करेंगे और उन्हें केन्द्र सरकार की उपलब्धियों से अवगत कराएंगे। केन्द्र के विकास और कल्याणकारी कार्यों की भी जानकारी वे आम लोगों को देंगे। पार्टी लोकसभा चुनाव के पहले पहले चरण में हर मतदाता से संपर्क कर लेना चाहती है। बैठक में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय भी मौजूद थे।

बैठक में पटना विवि चुनाव की चर्चा
प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक में पार्टी ने पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव पर भी विस्तार से चर्चा की

हार की चिंता भी दिखी। हालांकि पार्टी इसे हार मानने को तैयार नहीं है। उसकी नजर  में परिणाम ठीक-ठाक रहा है। कहा गया कि बाहर यही परसेप्शन बन रहा है कि जदयू ने भाजपा को बुरी तरह मात दी जबकि एबीवीपी को तीन सीटों पर जीत मिली। परिणाम बुरा नहीं रहा। छात्र संघ चुनाव में अध्यक्ष पद पर हार से यह मत बना। ऐसे में इसे बदलने की जरूरत है। पार्टी छात्रसंघ चुनाव में एबीवीपी की जीत मान रही है।