ऐसा अस्पताल जो ऑपरेशन, दवा, हॉस्पिटल खर्च का तय किया निर्धारित राशि

ऐसा अस्पताल जो ऑपरेशन, दवा, हॉस्पिटल खर्च का तय किया निर्धारित राशि

चर्चित बिहार :- बेगूसराय में “एलेक्सिया हॉस्पिटल” की नई पहल, नव वर्ष की दी सौगात…

कोई जब बीमार होता है तो इलाज में आने वाले खर्च को लेकर मध्यम वर्गीय परिवार चिंता के अथाह सागर में डूब जाता है . तो वहीं गरीब परिवार समझ नहीं पाता कि कितना खर्च आएगा ऐसे में शहर में इलाज कराने के लिए आस-पड़ोस से पैसे इकट्ठे करने में लग जाता है । एक तरफ बीमार पीड़ा से कराहता रहता है तो दूसरी तरफ परिजन इलाज में कितना खर्च आएगा, कैसा इलाज होगा इसको लेकर चिंता में डूबे रहते हैं । ग्रामीण क्षेत्र में अस्पताल से जुड़े कमिशनवाज या एम्बुलेंश वाले कमीशनखोर ऐसे अस्पताल पहुंचाते हैं जहाँ उन्हें कमीशन पेशेंट पहुंचाने के एवज में मिलते हैं । ऐसे चिकित्सक जिला मुख्यालय से लेकर राजधानी में हैं जो पेशेंट के एवज में कमीशन एम्बुलेंश वाले को देते हैं । किंतु भ्रम जाल से पर्दा उठाता एक पोस्टर वाट्सअप ग्रुप में जब देखा तो शुकुन मिला है । कोशी और मिथिला क्षेत्र के रोगियों के लिए कई मर्तवा बरदान साबित हुआ बेगूसराय का एलेक्सिया हॉस्पिटल ने इस झंझावात से मरीज और उसके परिजन को राहत देने के लिए नई तरकीब इजाद की है । वाट्सएप पर जो पोस्टर दिखा है उसके मुताबिक सामान्य तौर पर होने वाली बीमारी के इलाज, हॉस्पिटल खर्च, दवा का एक निर्धारित राशि जारी किया है । इसके मुताबिक कोई भी मरीज संबंधित बीमारी के लिए तय राशि अस्पताल को देगा और दवा से लेकर जांच, ऑपरेशन, अस्पताल खर्च के रूप में अलग से एक रुपया भी नहीं देना होगा । ना कहीं किसी को कमीशन, ना अधिक खर्च होने की चिंता । बस जिस बीमारी के लिए जो राशि तय किया उसी में एक्सरे से लेकर , ऑपरेशन, दवा, अस्पताल का सभी खर्च । तो है ना आम लोगों के लिए खुशखबरी । क्योंकि आए दिन यह खबर आति है कि फलाने ऑपरेशन के बाद अस्पताल ने इतना राशि का बिल बना दिया और नहीं चुकाने पर मरीज बंधक बन गया है । अब ये सब से निजात एलेक्सिया हॉस्पिटल दे रहा है । बेगूसराय जिले का पहला निजी क्षेत्र का यह हॉस्पिटल है । बल्कि यह कहें कि एलेक्सिया हॉस्पिटल खुलने के बाद ही ओधोगिक राजधानी के रूप में पहचान रखने वाले बेगूसराय में क्लीनिक की परिपाटी से ऊपर उठकर कुछ अस्पताल खुले हैं । एलेक्सिया हॉस्पिटल के निदेशक डा0 धीरज शांडिल्य की पहचान गोली स्पेसलिस्ट चिकित्सक के रूप में है । गोली लगा कोई पेशेंट यहां पहुँच जाये तो उसकी जिन्दगी बच जाती है । बाहर से बड़ा अस्पताल देखकर लोग समझते हैं कि यह मंहगा हॉस्पिटल होगा । लेकिन एक छत के नीचे सारी जांच और ऑपरेशन की सुविधा उपलब्ध इस अस्पताल की खासियत है कि इसके कमीशन एजेंट नहीं हैं, किसी एम्बुलेंश वाले को यहां से कमीशन मरीज पहुंचाने के बदले नहीं मिलता, यहां एमआर की लाइन नहीं लगती । साफ सफाई भी देखने लायक । हमने भी यहां भर्ती रहकर इलाज कराया है इस लिए हम कह सकते है कम खर्च में बेहतर सुविधा देता है एलेक्सिया हॉस्पिटल । नए साल के अवसर पर इससे बड़ी सौगात क्या हो सकती है एक हॉस्पिटल की ओर से । दूसरे प्रदेश के भी चिकित्सक और सहयोगी यहां सेवा दे रहे हैं । एलेक्सिया हॉस्पिटल प्रबंधन के प्रति आभार कि अपने आम लोगों के लिए नई तकनीक के साथ नया नजरिया पेस किया है ।