सिमरिया घाट के विकास को कृतसंकल्पित है सरकार: प्रभारी मंत्री

सुरेन्द्र, बेगूसराय।
चर्चित बिहार गंगा घाट एवं मेला क्षेत्र में फैले गंदगी के बीच बुधवार की शाम से सिमरिया में राजकीय कल्पवास मेला का विधिवत शुभारंभ हो गया। बिहार सरकार के श्रम संसाधन मंत्री सह बेगूसराय के प्रभारी मंत्री विजय कुमार सिन्हा ने दीप प्रज्वलित कर मेला का शुभारंभ किया। उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए प्रभारी मंत्री ने कहा कि स्थानीय लोगों की भावना को सरकार गंभीरता से ले रही है। यह पर्यटन के क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं। तीन पौराणिक साम्राज्य के संगम स्थल सिमरिया को विकसित करने के लिए सरकार प्रयासरत है। धरती जब जगती है तो वहां व्यापक संभावनाएं विकसित होती है। हम सबको मिलकर सिमरिया को बढ़ाने के लिए कदम से कदम मिलाकर चलने की जरूरत है। संकल्प को सिद्धी तक पहुंचाने के लिए दृढ़ संकल्प होनी चाहिए। तभी समग्र विकास हो सकेगा। सनातन सबसे बड़ा सच है और इसे स्वीकारते हुए 21 वीं सदी का भारत अपने मुकाम की ओर बढ़ रहा है। सिमरिया में हुए कुंभ की चर्चा पूरे देश में हो रही है। यहां आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए सिढ़ी घाट एवं अतिथिशाला बनाने पर विचार हो रहा है। गंगा माता को पवित्र बनाए रखने का माहौल तैयार करना होगा। सरकार हर कदम से कदम मिलाकर चलेगी। समारोह को संबोधित करते हुए विधान पार्षद सह भाजपा के राष्ट्रीय मंत्री रजनीश कुमार ने कहा कि पौराणिक काल से ही सिमरिया में कल्पवास चल रहा है। स्वामी चिदात्मन जी महाराज के सहयोग से कुंभ लगा। हरिद्वार, काशी की तरह सिमरिया में लोगों की आस्था है। लाखों लोग कल्पवास के बाद भी आते हैं। मुख्यमंत्री के समक्ष यहां के विकास का मुद्दा उठाया गया है। उनके आदेश पर यहां पर्यटन विभाग द्वारा सभी श्रद्धालुओं के लिए स्थाई सुविधा का विकास होगा। जिला प्रशासन द्वारा डीपीआर तैयार किया जा रहा है। उसे सरकार के पास भेजा जाएगा। ताकि इसकी महत्ता राष्ट्रीय फलक पर छा सके। आगत अतिथियों का स्वागत करते हुए डीएम राहुल कुमार ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा आयोजित मेला में कल्पवासी समेत तमाम श्रद्धालुओं की हर सुविधा के लिए जिला प्रशासन सजग है। मेला क्षेत्र को आ सेक्टर में बांट कर तथा चार वाच टावर से सुरक्षा व्यवस्था किया जा रहा है। 84 खालसा लगाये गये हैं। शौचालय, स्नानागार, पेयजल, बैरिकेटिंग, मेडिकल टीम, अस्थायी थाना आदि की व्यवस्था किया गया है। कल्पवास मेला समिति कार्यकारी अध्यक्ष चितरंजन प्रसाद सिंह ने कहा कि मेला में अव्यवस्था का आलम है। यहां से प्रत्येक वर्ष दो करोड़ से अधिक का राजस्व मिलता है तो उस अनुरुप सुविधा मिले। कम से आय का 25 प्रतिशत सुविधा पर खर्च किया जाय। भोला बाबू के अथक प्रयास से शुरु राजकीय मेला को व्यापक रुप दिया जाय। जदयू जिलाध्यक्ष सह पूर्व विधान पार्षद भूमिपाल राय ने सड़क समेत अन्य मामले को उठाते सिमरिया घाट को राष्ट्रीय फलक पर ले जाने की मांग की। उन्होंने प्रभारी मंत्री से बछवाड़ा प्रखंड के चमथा कल्पवास मेला एवं साहेबपुर कमाल प्रखंड के राजघाट में आयोजित कल्पवास मेला को राजकीय मेला का दर्जा देने की मांग किया। समारोह को संबोधित करते हुए भाजपा जिलाध्यक्ष संजय सिंह ने कहा कि सिमरिया की महिमा अपरंपार है। सबको मिलकर चाहिए कि सिमरिया के समग्र विकास का करें। यहां पर्यटन की संभावनाओं का विस्तारीकरण किया जाए। उन्होंने कहा कि पूरा देश प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में स्वच्छता अभियान चला रहा है। सिमरिया घाट को भी स्वच्छ रख कर बेहतर माहौल में कल्पवासियों को सुविधा दें। यह हमारा कर्तव्य है, क्योंकि हमारी परंपरा है अतिथि देवो भव की। उद्घाटन से पूर्व डीएम ने जन सम्पर्क विभाग, अस्थायी अस्पताल आदि का निरीक्षण किया तथा एप्रन, नेमप्लेट समेत कई अन्य निर्देश दिया। धन्यवाद ज्ञापन एडीएम ओमप्रकाश प्रसाद तथा मंच संचालन पत्रकार प्रो कुंदन कुमार ने किया। इस मौके पर पुलिस अधीक्षक अवकाश कुमार, डीडीसी कंचन कपूर, एडीएम ओम प्रकाश प्रसाद, डीपीआरओ आशीष आनंद, डीटीओ राजीव कुमार श्रीवास्तव, सदर एसडीओ संजीव चौधरी, मेला प्रभारी धनंजय कुमार, एएसपी मनोज तिवारी, जिला परिषद अध्यक्ष रविन्द्र चौधरी, कुंभ सेवा समिति के अध्यक्ष डॉ नलिनी रंजन सिंह, समाजिक कार्यकर्ता संजय गौतम, उषा रानी, भाजपा के मीडिया प्रभारी शुभम कुमार, रविन्द्र ब्रह्मचारी, रामजी झा एवं स्थानीय मुखिया रंजीत कुमार समेत अन्य के साथ बड़े पैमाने पर कल्पवासी उपस्थित थे।