प्रतिभा किसी उम्र की मोहताज नहीं होती, श्वेता झा ने यह किया है साबित

प्रतिभा किसी उम्र की मोहताज नहीं होती, श्वेता झा ने यह किया है साबित

कई खिताब जीत कर लड़की और महिलाओं को कर रही हैं प्रेरित

वरिष्ठ पत्रकार मुकेश कुमार सिंह

पटना (बिहार) : वाकई, प्रतिभा किसी उम्र की मोहताज नहीं होती है। इस को सच कर दिखाया है झारखण्ड की बेटी और बिहार की बहू श्वेता झा ने। श्वेता झा, कई खिताब जीत कर, आज लड़की और महिलाओं के बीच ना केवल रोल मॉडल बन चुकी हैं बल्कि संकल्प हो, तो कुछ भी असंभव नहीं है का, अजीम संदेश भी दे रही हैं। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2021 के मौके पर दिल्ली में आयोजित “क्वीन यूनिवर्स प्रत्योगिता” में, अब बिहार के पटना की हो चुकी श्वेता झा “मिसेस इंडिया कॉन्टिनेंट्स क्वीन” चुनी गईं। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर “मिस इंडिया होम मेकर्स ” के द्वारा आयोजित “क्वीन यूनिवर्स प्रत्योगिता” में पूरे भारत ( तेलंगाना, बिहार, महाराष्ट्र, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरयाणा, ओडिशा) से कुल पंद्रह महिलाओं ने हिस्सा लिया था। इस प्रतियोगिता में मिसेस श्वेता झा “मिसेस इंडिया कॉन्टिनेंट्स क्वीन” चुनी गईं, जिन्हें दिल्ली के सबडिविजनल मैजिस्ट्रेट डॉक्टर नितिन शाक्य द्वारा सम्मानित किया गया।

बिहार की सामाजिक परिवेश और व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए, अपने सपनों को साकार करने की हिम्मत रखने वाली और परिंदे की तरह आसमानी उड़ान भरने वाली, शादी-शुदा महिला श्वेता झा एक उदहारण बन गयी हैं। गौरतलब है कि मिसेस श्वेता झा बिहार की बहु और रांची की बेटी हैं। 2007 से पटना में बसे और कई अलग अलग शहरो में रहने के बाबजूद, श्वेता ने अपनी मिट्टी का नाम रौशन किया है। मिसेस श्वेता झा गुणवान बहु हैं, वो दिखने में सूंदर, फिटनेस एक्सपर्ट, स्मार्ट बिजनेस वीमेन, स्टॉक ट्रेडर, अच्छी ड्राईवर, कुक, माँ और एक अच्छी पत्नी के साथ-साथ अपने कैरियर के प्रति काफी सजग महिला हैं। मिसेस श्वेता झा ने, इससे पहले भी कई खिताब अपने नाम कर रखे हैं। श्वेता को वर्ष 2003 में मिस रांची, मिस टीन, मिस स्माईल, 2021 में मिसेज बिहार, मिसेज फोटोजेनिक, मिसेज ब्यूटीफुल हेयर के खिताब से नवाजा जा चुका है। 8 मार्च 2021 को आयोजित प्रतियोगिता समारोह में उन्होंने ” मिसेज इंडिया कॉन्टिनेंट्स क्वीन “का ख़िताब जीत कर बिहार का नाम रौशन किया है। उन्होंने अपनी कामयाबी में लिए अपने पति चन्दन कुमार झा का आभार व्यक्त किया है।

जिन्होंने, हमेशा उन्हें आगे बढ़ने का ना केवल हौसला दिया बल्कि मजबूती के साथ, श्वेता के साथ कदमताल भी किया। उन्होंने रीता गंगवानी, ग्रूमिंग मेंटर (मानुषी छिल्लर की मेंटर) का भी आभार व्यक्त किया है। श्वेता झा ने, नाज जोशी (आर्गेनाइजर), प्रस्तुत मीडिया, “ट्रीटान सोल्युशन”,जूरी मेम्बरों और उपस्थित सभी दर्शकों का अंतरतम से आभार व्यक्त किया है। दीगर बात है कि आने वाले समय में मिसेज श्वेता झा, कई प्रतियोगिताओ में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली हैं। उनकी सफलता पर बिहार और झारखण्ड के आम लोगों ने भी हर्ष व्यक्त किया है। श्वेता झा से मोबाईल के जरिये हमसे हुई बातचीत के दौरान श्वेता झा ने कहा कि वह मध्यमवर्गीय परिवार में पैदा हुई हैं। माँ और पिता के साथ-साथ घर के कोई भी सदस्य, उसके इस शौक को कभी पसंद नहीं किये। घरवालों के हर तरह के विरोध का उन्हें सामना करना पड़ा। 2003 में मिस रांची, मिस टीन और मिस स्माईल का खिताब उन्होंने, बिना घर के सहयोग से जीता था। उन्होंने कहा कि उनकी इस कामयाबी से घर के कोई लोग खुश नहीं थे। घर के लगभग सभी सदस्यों का रुख नकारात्मक था। श्वेता ने कहा कि उनकी शादी 2007 में पटना में हुई। पति का नाम चंदन कुमार झा है। वह एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर हैं। इनका अनुभव रिलायंस, सीमेंस, बजाज इलेक्ट्रिकल्स जैसी बड़ी-बड़ी कंपनियों में रहा है। चंदन कुमार झा अभी, अपनी सेल्स एजेंसी, सीमेंस कंस्ट्रक्शन कंपनी के नाम से पटना में चला रहे हैं। श्वेता झा ने बेहद साफ लहजे में कहा कि उन्होंने किस्मत से ऐसा पति पाया है, जो उन्हें बाज की तरह उड़ान भरते देखना चाहते हैं।

आने वाले समय में मिसेस श्वेता झा ने बिहार और झारखण्ड के लोगो से, थोक में आशीर्वाद की अपेक्षा की है।