पाठ्यक्रम में जल्द शामिल हो सकता है वैशाली के दो लालों की जीवनी : हँसराज भारद्वाज

0
168

पाठ्यक्रम में जल्द शामिल हो सकता है वैशाली के दो लालों की जीवनी : हँसराज भारद्वाज

करत करत अभ्यास ते, जड़मति होत सूजन। रसरी आवत जात ते सील पर पड़त निशान।।

कहते हैं लगातार परिश्रम का फल हमेशा मीठा होता है और निरंतर प्रयास अनिश्चित को निश्चित बनाता है।

लगभग दशकों से “युवा एकता मंच, बिहार” लगातार बिहार के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने महज 27 वर्ष की अल्पायु में भारत माँ को परतंत्रता की बेड़ी से आजाद कराने के लिए हँसते हँसते अपने प्राणों की आहुति दे दी थी, ऐसे वीर सपूत “क्रांतिवीर बैकुण्ठ शुक्ल” जी एवं शेरे बिहार योगेंद्र शुक्ल जो कि हिन्दुस्तान रिपब्लिकन ऐसोसिएशन के संस्थापकों में से एक थे, को देश के क्षितिज पर लाने का बेड़ा उठाया था, जो कि अब फलीभूत होता नजर आ रहा है।

संस्था के प्रदेश अध्यक्ष संजीत चौधरी पिछले 10 सालों से निरंतर वैशाली जिले के मुख्यालय हाजीपुर में भव्य रूप से क्रांतिवीर बैकुण्ठ शुक्ल जी के शहादत दिवस को एक समोराह के रूप में मनाते आ रहे है, जिसमें जिले के कोने कोने से लोगों की उपस्थिति होती है।

भाजपा युवा नेता सह संस्था के प्रदेश उपाध्यक्ष हँसराज भारद्वाज बताते हैं कि शहादत समोराह में उपस्थित लोंगो के समक्ष संस्था द्वारा सरकार से कुछ मांगे लगातार रखी जा रही थी, जिसमें मुख्य रूप से लालगंज रेलवे स्टेशन का नामकरण बैकुण्ठ शुक्ल जी के नाम पर करने एवं उनके जीवनी को पाठ्यक्रम में जोड़ने जैसे महत्वपूर्ण माँग को सरकार तक विभिन्न माध्यमों से पहुँचाया गया।

वर्तमान में राज्यसभा सांसद श्री विवेक ठाकुर को संस्था के प्रदेश उपाध्यक्ष ने मिलकर उपरोक्त दोनों माँगों को रखा, जिसके फलस्वरूप उन्होंने कारवाई करते हुए सरकार के विभिन्न विभागों को पत्राचार के माध्यम से विषय को प्रमुखता से रखते हुए उनपर आवश्यक कारवाई करने का अनुरोध किया। जिसपर विभिन्न विभागों द्वारा पत्राचार के माध्यम से उनके मांगों की स्वीकृति का आश्वासन दिया गया है।

हाल ही में सांसद विवेक ठाकुर ने “अमर शहीद बैकुण्ठ शुक्ल जी तथा शेरे बिहार योगेंद्र शुक्ल जी की जीवनी को” NCERT के पाठ्यपुस्तक में शामिल करने की मांग करते हुए पत्र लिखा था। जिसके जबाब में NCERT ने लिखा कि “आपके द्वारा भेजे गए पत्र सं. VTMP(RS) 25 (II)/2023 दिनांक 18 जनवरी, 2023 में दिया गया उपरोक्त सुझाव सराहनीय है। सामाजिक विज्ञान शिक्षा विभाग आपको अवगत कराना चाहता है कि वर्तमान में पाठ्यचर्या की रूपरेखा पर काम चल रहा है। पाठ्यचर्या को अंतिम रूप दिये जाने के बाद पाठ्यक्रम व पाठ्यपुस्तकें तैयार की जाएँगी। ऐसा करते समय हम आपके सुझाव को विशेषज्ञ समिति के सामने रखने का आश्वासन देते हैं।”

इस पुण्य कृत के लिए हम सभी जिलावासियों के तरफ से राज्यसभा सांसद श्री विवेक ठाकुर जी को कोटि कोटि धन्यवाद करते हैं साथ ही उन सभी पूर्व सांसदों श्री सी.पी ठाकुर जी, श्री अरुण कुमार जी, श्री चिराग पासवान जी एवं हाजीपुर के वर्तमान संसद जी को भी सरकार को पत्राचार के लिए धन्यवाद प्रेषित करता हूँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here