बिहार के नया पुलिस हेडक्वार्टर का आज होगा उद्घाटन,8 की तीव्रता वाले भूकंप का भी असर नहीं, छत पर उतरेगा हेलीकॉप्टर ..

बिहार के नया पुलिस हेडक्वार्टर का आज होगा उद्घाटन,8 की तीव्रता वाले भूकंप का भी असर नहीं, छत पर उतरेगा हेलीकॉप्टर ..

चर्चित बिहार टना / आज बिहार के हाइटेक पुलिस हेडक्वार्टर का उदघटना मुख्यमंत्री नीतीश कुमार करेंगे | बेली रोड के किनारे पटना गोल्फ क्लब के सामने पुराने वायरलेस भवन वाले कैंपस में 388 करोड़ की लागत से 7 एकड़ में 7 मंजिली बिल्डिंग तैयार हो गई है। फिनिशिंग का काम चल रहा है। अब उद‌्घाटन की तैयारी है।

पुलिस हेडक्वार्टर ही राज्य में आपदा के समय इमरजेंसी ऑपरेटर सेंटर होगा। इस भवन पर 7-8 की तीव्रता वाले भूकंप का भी असर नहीं पड़ेगा। इसके लिए बिल्डिंग के बेसमेंट में बेस आईसोलेशन बेयरिंग (स्टील प्लेट पर लगा हुआ रबड़ का कूशन) लगाई गई है। पटना भूकंप के सिसमिक जोन 4-5 में है। यही कारण है कि सरकार ने इस बिल्डिंग को इमरजेंसी ऑपरेटर सेंटर के लिए चयनित किया है। इसकी नींव और छत को इतना मजबूत ढाला गया है कि हेलीकॉप्टर भी उतारा जा सकता है।

पर्यावरण का रखा गया है पूरा ध्यान
एक छत के नीचे डीजीपी से लेकर पुलिस के सभी विंग के दफ्तर होंगे। इस ग्रीन बिल्डिंग में पर्यावरण का पूरा ध्यान रखा गया है। खुफिया विंग, ट्रेनिंग, बीएमपी, वायरलेस सहित सभी विंग के कार्यालय एक ही जगह होने से बिल्डिंग पूरी तरह ऑपरेशनल होगा। यानी क्राइसिस के समय में बिल्डिंग में सभी विंग के अधिकारी पूरे ऑपरेशन को मॉनिटर कर सकेंगे। जीपीएस सिस्टम से पता चलता रहेगा कि जिलों में एसपी कहां हैं और पुलिस की गाड़ियां कहां मूव कर रही हैं।

इनडोर फायरिंग रेंज की भी होगी व्यवस्था
यहां पुलिसकर्मियों के लिए इनडोर फायरिंग रेंज की भी व्यवस्था होगी। सभी तरह के अत्याधुनिक उपकरण रहेंगे। टेक्निकल सर्विलांस व मोबाइल ट्रैकिंग सिस्टम से लैस इस परिसर में आग से बचाव के अत्याधुनिक उपकरण, अपारंपरिक ऊर्जा के स्रोत, कॉन्फ्रेंस हॉल, ऑडिटोरियम, हेलीपैड, पीसीसी परेड ग्राउंड, पुलिस म्यूजियम, एडवांस ट्रेनिंग स्कूल, फॉरेंसिक साइंस लेबोरेट्री, डीएनए लैब, कंट्रोल टॉवर, राज्य पुलिस नियंत्रण कक्ष और पुलिस सूचना कक्ष रहेंगे।

100 साल के बाद बदल जाएगा हेडक्वार्टर
पुराना सचिवालय में वर्ष 1917 से चल रहा पुलिस मुख्यालय अब अपनी बिल्डिंग में शिफ्ट हो जाएगा। खास बात यह होगी कि बिहार में पहली बार पुलिस हेडक्वार्टर बिल्डिंग सरकार के मुख्यालय यानी सचिवालय के बाहर होगा। इस हाइटेक बिल्डिंग को वर्ष 2015 तक बनकर तैयार हो जाना था। तब इसकी लागत थी 281 करोड़। लेकिन निर्माण में देरी और कई नई आवश्यकताओं की पूर्ति करने के लिए इसकी लागत बढ़ गई।

निर्माण पर खर्च हुए 388 करोड़ रुपए
पुलिस मुख्यालय का नया भवन सात एकड़ जमीन पर बना है। निर्माण कार्य पर 388 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। इसे ‘स्टेट ऑफ द आर्ट’ पुलिस मुख्यालय भवन कहा जा रहा है। यह इमारत कई मायनों में खास है। सबसे अहम यह है कि रिक्टर पैमाने पर 7-8 की तीव्रता वाले भूकंप का असर भी इस भवन पर नहीं पड़ेगा।
नई बिल्डिंग के सातवें तल्ले की छत पर एक हिस्से में हेलीपैड बनाया गया है।
आपदा के समय यहीं होगा इमरजेंसी ऑपरेशनल सेंटर : भविष्य को देखते हुए पुलिस मुख्यालय की नई इमारत को बनाया गया है। इस तरह डिजाइन किया गया है कि प्राकृतिक या अन्य आपदा के समय यह इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर की तरह काम कर सके। इसकी नींव और छत को इतना मजबूत बनाया गया है कि हेलीकॉप्टर तक उतारा जा सके।
एक ही परिसर में 24 घंटे काम करेगा पूरा पुलिस महकमा
मुख्यालय की नई इमारत ग्रीन बिल्डिंग श्रेणी की है। इसमें एक ही परिसर में पूरा पुलिस महकमा 24 घंटे काम करेगा। सीएम व डीजीपी से लेकर पुलिस के सभी विंग के दफ्तर होंगे। टेक्निकल सर्विलांस व मोबाइल ट्रैकिंग सिस्टम से लैस इस परिसर में आग से बचाव के अत्याधुनिक उपकरण व अपारंपरिक ऊर्जा के स्रोत के प्रावधान से लेकर कॉन्फ्रेंस हॉल, ऑडिटोरियम, पुलिस म्यूजियम, एडवांस ट्रेनिंग स्कूल, फॉरेंसिक साइंस लेबोरेट्री, डीएनए लैब, कंट्रोल टॉवर, राज्य पुलिस नियंत्रण कक्ष और पुलिस सूचना कक्ष तक रहेंगे।