बिहार में यूरिया की कमी नहीं, कालाबाजारी करने वालों पर होगी कड़ी कार्रवाई: डॉ. प्रेम

चर्चित बिहार पटना.  बिहार में यूरिया की कोई कमी नहीं है। यह दावा कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने किया। उन्होंने यूरिया कालाबाजारी करने वालों को चेताया है कि कहीं से भी शिकायत मिलने और निर्धारित मूल्य से अधिक कीमत लेने पर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। अधिक कीमत लिए जाने की शिकायत किसान साक्ष्य के साथ करें, निश्चित ही कार्रवाई होगी।

किसानों का हित सरकार की प्राथमिकता है। जिलों के अधिकारियों को भी निगरानी समिति की नियमित बैठक कर यूरिया या अन्य खाद की कालाबाजारी करने वालों पर कार्रवाई का निर्देश दिया गया है।

 

उन्होंने कहा कि राज्य में एक-दो जगहों से यूरिया खाद के अधिक मूल्य पर बिक्री करने की सूचना प्राप्त हुई है। इस मामले पर विभाग लगातार समीक्षा कर जांच करा रहा है। इससे दोषी मिलने पर कठोर कार्रवाई की जाएगी। राज्य में पर्याप्त मात्रा में यूरिया उपलब्ध है। केंद्र से लगातार यूरिया की आपूर्ति हो रही है। खरीफ मौसम में सितंबर तक 9 लाख टन यूरिया की जरूरत है, जबकि 9 सितंबर तक 7.55 टन आपूर्ति हो चुकी है।

मंत्री ने कहा कि उर्वरक बिक्री केंद्रों पर पीओएस मशीन से 266.50 रुपए प्रति 45 किलोग्राम यूरिया का पैकेट बिक्री किया जाना है। राज्य में यूरिया का स्टॉक वेबसाइट पर भी अपलोड रहता है, जो कोई भी देख सकता है। कोई खाद विक्रेता उर्वरक की उपलब्धता छिपा नहीं सकता है।

उर्वरक कालाबाजारी पर निगरानी के लिए जिला स्तर पर डीएम की अध्यक्षता में और प्रखंड स्तर पर प्रखंड प्रमुख की अध्यक्षता में निगरानी समिति गठित है। इन समितियों की नियमित बैठक कराने के लिए सभी जिलों को निर्देश दिए गए हैं।