चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर आज करेंगे अपनी आगे की रणनीति का खुलासा।

0
22

चर्चित बिहार :
न्यूज़ डेस्क
अप्रैल 05/05 /2022

बिहार :चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर गुरुवार को अपनी आगे की रणनीति का खुलासा करेंगे। दो मई को उन्होंने ट्वीट किया था कि वे बिहार से ‘जन सुराज’ की शुरुआत करेंगे। इसके बाद से बिहार में चर्चा शुरू हुई कि क्या प्रशांत किशोर कोई राजनीतिक पार्टी बनाएंगे? या कोई सामाजिक अभियान की शुरुआत करेंगे? हालांकि इसको लेकर उन्होंने कोई अतिरिक्त जानकारी नहीं दी है। मगर गुरुवार को उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई है, जिसमें वे अपनी रणनीति का खुलासा करने वाले हैं।

प्रशांत किशोर बिहार में आज अगर एक नए राजनीतिक मोर्चे की नींव रखते हैं, तो प्रदेश की जनता उन्हें पहले भी इस अवतार में देख चुकी है। सितंबर 2018 में महागठबंधन को सत्ता में लौटने में मदद करने के बाद पीके जेडी(यू) में शामिल हो गए थे। नीतीश कुमार ने उन्हें पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के पद से पुरस्कृत किया था। उन्हें युवा कैडर को सक्रिय करने का काम सौंपा गया था। 2019 के पटना विश्वविद्यालय चुनावों में उन्हें जेडीयू के छात्र विंग की उपस्थिति दर्ज कराने में मदद करने का श्रेय दिया गया।

पहले भी कर चुके हैं ‘बात बिहार की’
जनवरी 2020 में पीके को जेडीयू से निष्कासित कर दिया गया। नीतीश कुमार ने कहा कि उन्होंने भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री अमित शाह के आग्रह पर चुनावी रणनीतिकार को पार्टी में शामिल किया था। जेडीयू से निकाले जाने के बाद “बात बिहार की” अभियान शुरू किया। यह सदस्यों के नामांकन के लिए एक ऑनलाइन अभियान था। उन्होंने विकास सूचकांकों का हवाला देते हुए दिखाया कि राज्य अपने समकक्षों से कैसे पिछड़ गया।

राजनीतिक कंसल्टेंसी फर्म I-PAC के एक सूत्र ने कहा: “हमने कुछ लाख से अधिक सदस्यों को प्राप्त करते हुए अभियान को अच्छी तरह से शुरू किया। फिर हम दूसरे असाइनमेंट में फंस गए और चीजें आगे नहीं बढ़ीं। लेकिन अभियान के तहत एकत्र किया गया डेटा अभी भी बहुत महत्वपूर्ण है।”

राजनीति के इस प्रक्षेपण के हिस्से के रूप में, किशोर डॉक्टरों, आरटीआई कार्यकर्ताओं, सेवानिवृत्त शिक्षकों सहित नागरिक समाज के प्रमुख सदस्यों से मिलते रहे हैं। उन्होंने कहा है कि वह एक “साफ रिकॉर्ड” के साथ अच्छे नामों की तलाश कर रहे हैं। उनके द्वारा आयोजित की जाने वाली बैठकों में सहयोगी कथित तौर पर आगंतुकों का बायोडाटा और विस्तृत सुझाव लेते हैं। उनमें से एक आरटीआई कार्यकर्ता शिव प्रकाश राय ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, “एक शुरुआत करनी होगी। यदि प्रशांत किशोर एक वैकल्पिक मॉडल पेश करने की कोशिश कर रहे हैं, तो उन्हें उनका समर्थन करना चाहिए और उन्हें खारिज नहीं करना चाहिए।”

प्रशांत किशोर लोगों से मिलने-जुलने का सिलसिला बुधवार को भी जारी रखा। कई राजनैतिक और गैर राजनैतिक लोगों ने प्रशांत किशोर से मुलाकात की। मिलने वालों में बड़ी संख्या में सामाजिक कार्यकर्ता और छात्र भी शामिल रहे। मिलने वालों में कई ऐसे भी हैं जो प्रशांत किशोर और उनके द्वारा शुरू किये जाने वाले कार्यक्रम में सहयोगी बनना चाहते हैं।

लालू बोले- पीके को सभी ने लौटा दिया
बुधवार को एम्स से डिस्चार्ज होने के बाद लालू प्रसाद यादव से जब प्रशांत किशोर के बारे में पूछा गया तो उन्होंने मुस्कुराते हुए इसका जवाब दिया। आरजेडी सुप्रीमो ने कहा, ‘प्रशांत किशोर सारे देश से घूमकर आ गए हैं। उन्हें लोगों ने लौटा दिया। अब वहीं पहुंचे हैं, जहां उनका कोई ठिकाना नहीं रहेगा।’

पीके के सवाल पर नीतीश ने क्या दिया जवाब?
इससे पहले ईद के मौके पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार से भी पीके के बारे में पूछा गया। उन्होंने इस मामले पर कुछ भी टिप्पणी करने से इंकार कर दिया।